Saturday, Oct 25th

Last update05:16:36 PM GMT

You are here:: राज्य

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

Warning: Attempt to modify property of non-object in /home/nnilive/public_html/components/com_jomcomment/mambots.php on line 143

प्रदेश

बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए पहला जत्था रवाना

E-mail Print PDF

जम्मूः जम्मू हर-हर महादेव...जय बाबा अमरनाथ की गूंज के साथ अमरनाथ यात्रा के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था शुक्रवार को जम्मू बेस कैंप से रवाना हुआ। इस जत्थे में 1,160 यात्री हैं। राज्य के टूरेजम मंत्री गुलाम अहमद मीर ने इस जत्थे को झंडी दिखाकर रवाना किया।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, जत्थे में 957 पुरुष और 187 महिलाएं और 16 बच्चे शामिल हैं। तीर्थ यात्रियों के काफिले में कुल 42 गाड़ियां हैं, जिनमें 23 बसें और 19 हल्के वाहन शामिल हैं। जत्था सुबह करीब 5: 30 बजे रवाना हुआ। अधिकारियों ने बताया कि यात्रियों की हिफाजत के पूरे इंतजाम किए गए हैं।
अमरनाथ श्राइन बोर्ड 30 जून को पहलगाम गुफा वाला रास्ता खोले जाने की समीक्षा करेगा। बोर्ड ने श्रद्धालुओं से कहा है कि जब तक पहलगाम से अमरनाथ के रास्ते से बर्फ साफ नहीं हो जाती, वे बालटाल वाले रास्ते से जाएं।

AddThis Social Bookmark Button

बिहारःराजधानी एक्सप्रेस हादसे के पीछे माओवादियों पर संदेह,चार की मौत

E-mail Print PDF

छपरा /नई दिल्लीःबिहार में राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन हादसे के पीछे माओवादियों का हाथ होने के सबूत मिले हैं। रेलवे सूत्रों का कहना है कि माओवादियों ने ही ट्रेन को उढाने की नियत से रेलवे ट्रैक को क्षतिग्रस्त किया है। हादसा सारण जिला मुख्यालय छपरा से दो किलोमीटर दूरी पर गोल्डनगंज के समीप हुआ। इस हादसे में 4 यात्रियों की मौत हो गई तथा 23 अन्य घायल हो गए । वहीं हादसे में माओवादियों का हाथ होने की आशंका को राज्य सरकार ने खारिज कर दिया है। पूर्व मध्य रेलवे ने इस हादसे को लेकर अपनी रिपोर्ट में देर रात 2 बजकर 11 मिनट पर उक्त ट्रेन की 12 बोगियों के पटरी से उतर जाने की बात कही है।
पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल के प्राचार्य अमरकांत झा अमर ने बताया कि इस हादसे में घायल हुए 14 लोगों, जो इलाज के लिए पीएमसीएच लाए गए हैं, में से 13 की स्थिति गंभीर बनी हुई है। बाकी अन्य घायलों का इलाज छपरा में किया जा रहा है।
इस हादसे के कारणों को लेकर रेलवे और राज्य सरकार की अलग-अलग राय है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अरूणेन्द्र कुमार ने बताया, ‘प्रथम दृष्टया, ऐसा लगता है कि यह तोड़फोड़ का मामला है। पटरी पर विस्फोट हुआ था जिससे हो सकता है कि ट्रेन पटरी से उतरी हो।’ अरूणेन्द्र ने कहा, ‘स्टेशन से 60 किलोमीटर की दूरी पर एक अन्य मालवाहक गाड़ी भी विस्फोट के कारण पटरी से उतर गयी है। इस हादसे में 18 डिब्बे पटरी से उतर गए।’ उन्हें यह आशंका इसलिए है क्योंकि इस इलाके में माओवादियों ने सुरक्षाबलों की कार्रवाई के खिलाफ बीती रात 12 बजे से दो दिवसीय बंद का आहवान किया है।

हालांकि बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने सारण जिला मुख्यालय छपरा से दो किलोमीटर दूरी पर गोल्डनगंज के समीप दिल्ली-डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन हादसे में चार यात्रियों की मौत और 8 अन्य के घायल होने की घटना पर दुख व्यक्त किया तथा इसके पीछे माओवादियों का हाथ होने की संभावनाओं को खरिज करते हुए इसे रेलवे की चूक बताया।
रेल मंत्री सदानंद गौड़ा ने मारे गए यात्रियों के परिजनों को दो दो लाख रूपये, गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को एक एक लाख रूपये और मामूली रूप से घायल हुए यात्रियों को 20 हजार रूपये की मदद देने की घोषणा की है । उन्होंने घटना स्थल पर जाकर हालात का जायजा भी लिया है और उचित निर्देश दिए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार ट्रेन दुर्घटना में मारे गए लोगों को दो-दो लाख रुपये अनुग्रह राशि प्रदान करने की घोषणा की जो कि रेलवे की ओर से घोषित दो-दो लाख रुपये के अतिरिक्त होगी।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने बिहार में छपरा के निकट दिल्ली डिब्रूगढ राजधानी एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने पर आज शोक व्यक्त किया । राष्ट्रपति ने अपने शोक संदेश में कहा कि आज सुबह छपरा के निकट ट्रेन के पटरी से उतरने की घटना में चार लोगों के मरने और कई अन्य के घायल होने के संबंध में जानकारी मिलने पर उन्हें दुख पहुंचा है ।
दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली-डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस दुर्घटना में लोगों की मौत पर आज शोक व्यक्त किया । प्रधानमंत्री कार्यालय की एक विज्ञप्ति में कहा गया, ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस दुर्घटना में कुछ लोगों की जान जाने पर शोक व्यक्त किया है । उन्होंने घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है ।’
इस मामले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बिहार में दिल्ली-डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने की घटना के पीछे माओवादियों को दोषी ठहराना अभी जल्दबाजी होगी । राजनाथ सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने मौके पर मौजूद रेल अधिकारियों से सीधे बात की है। प्रधानमंत्री को पूरे घटनाक्रम के बारे में सूचित किया गया है । यहां तक कि प्रधानमंत्री भी इस बात से सहमत हैं कि नक्सलियों को दोषी ठहराना अभी जल्दबाजी होगी । घटना के बारे में और रिपोर्ट का हमें इंतजार करना चाहिए।’
वहीं, छपरा में राजधानी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने के बाद रेलवे पुलिस बल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज दावा किया कि बिहार के तिरहुत और सारण क्षेत्रों में रेल संपत्ति पर संभावित माओवादी हमलों के संबंध में रेल मंत्रालय के पास खुफिया सूचना थी। अधिकारी ने बताया कि तिरहुत और सारण क्षेत्रों में रेल संपत्ति पर माओवादियों के संभावित हमलों के बारे में खुफिया सूचना थी और उसके आधार पर रेल मंत्रालय ने पूर्व-मध्य रेलवे को सचेत भी किया था।

अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई वाली केंद्र की राजग सरकार के कार्यकाल के दौरान रेल मंत्री रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस बारे में कोई बयान देने के पूर्व मामले की जांच होने तथा किसी नतीजे तक पहुंचने तक रेलवे को इंतजार करना चाहिए था। उन्होंने कहा कि माओवादियों के बंद के आह्वान को देखते हुए लोगों को यह अंदेशा है कि कहीं यह उनकी करतूत तो नहीं है पर प्रशासन और पुलिस का कहना है कि उन्हें ऐसा प्रतीत नहीं हो रहा है।
नीतीश ने कहा कि इस घटना से एक प्रश्न जरूर उत्पन्न होता है कि अगर रेलवे को ऐसा लगता है कि इसके पीछे नक्सलियों का हाथ है तो जब किसी इलाके में नक्सली संगठनों द्वारा बंद का आह्वान किया जाता है तो वैसी स्थिति रेलवे यात्री ट्रेन को रवाना करने के पूर्व पायलट इंजन चलाती है। उन्होंने कहा कि उक्त ट्रेन को रवाना किए जाने के पूर्व अगर पायलट इंजन नहीं चलाया गया था तो फिर यह रेलवे की चूक है।
उधर, रेलवे ने बिहार में छपरा जिले के पास गोल्डन गंज स्टेशन पर बीती रात दिल्ली-ढिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने के हादसे के पीछे माओवादियों की ‘तोड़फोड़’ का संदेह जाहिर किया है क्योंकि पटरी पर विस्फोट हुआ था। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अरूणेन्द्र कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया, ऐसा लगता है कि यह तोड़फोड़ का मामला है। पटरी पर विस्फोट हुआ था जिससे हो सकता है कि ट्रेन पटरी से उतरी हो। कुमार ने बताया कि स्टेशन से 60 किलोमीटर की दूरी पर एक अन्य मालवाहक गाड़ी भी विस्फोट के कारण पटरी से उतर गई है। इस हादसे में 18 डिब्बे पटरी से उतर गए। माओवादियों ने इस इलाके में माओवादियों से सहानुभूति रखने के संदेह में ‘निर्दोष लोगों’ के खिलाफ सुरक्षा बलों द्वारा की जा रही ‘कड़ी सशस्त्र’ कार्रवाई के खिलाफ बंद का आह्वान किया था।

पीड़ितों एवं दूसरे यात्रियों के परिवारों को सूचना उपलब्ध कराने के लिए छपरा, समस्तीपुर, हाजीपुर, सोनपुर, बरौनी, मुजफ्फरपुर, लखनउ, वाराणसी, बलिया, गुवाहाटी, ढिब्रूगढ़, तिनसुकिया, मरियानी, दीमापुर, लुमडिंग, न्यू कूचबिहार, न्यू जलपाईगुड़ी और कटिहार में हेल्पलाइन शुरू की गयी हैं ।

AddThis Social Bookmark Button

आप नहीं कांग्रेस को समर्थन करेंगे मुख्तार अंसारी

E-mail Print PDF

वाराणसीःरिपोर्ट (संजीव कुमार)  बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी ने वाराणसी के चुनाव को और रोमांचक बना दिया है। जहां क्यास लगाए जा रहे थे की मुख्तार अरविंद केजरीवाल को समर्थन कर सकते हैं लेकिन उन्होंने कांग्रेस के अजय राय का समर्थन करने का एलान कर दिया है। ये घोषणा मुख्तार के भाई अफजाल अंसारी ने प्रेस कांफ्रेंस में की। इसी के साथ मुख्तार अंसारी द्वारा समर्थन को लेकर चल रहा सस्पेंस भी खत्म हो गया। कयास लगाए जा रहे थे कि अंसारी अरविंद केजरीवाल को समर्थन दे सकते हैं।

कांग्रेस नेता अजय राय और मुख्तार अंसारी के बीच छत्तीस का आंकड़ा रहा है। इसके बावजूद नरेंद्र मोदी के खिलाफ मजबूत चुनौती पेश करने की खातिर अंसारी ने अजय को समर्थन का ऐलान किया है। वाराणसी में करीब 3 लाख मुस्लिम मतदाता हैं, ऐसे में अंसारी का समर्थन अजय राय मोदी को जबरदस्त टक्कर दे सकते हैं।

AddThis Social Bookmark Button

आरएसएस ने कहा हमारा काम नमो-नमो करना नहीं है

E-mail Print PDF

नई दिल्लीः राष्ट्रीय स्वयसेवा संघ सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि उनका काम नमो-नमो करना नहीं है। ये बात उन्होंने बेंगलुरू में प्रतिनिधि सभा की बैठक में कही, भागवत ने कार्यकर्ताओं से कहा है कि भाजपा के लिए काम करते वक्त कभी भी मर्यादा न भूलें और व्यक्ति केंद्रित अभियान से दूरी बनाएं रखें।
भागवत जिस समय ये बातें कह रहे थे उस समय भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह भी बैठक में मौजूद थे। एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक भागवत ने कहा कि हम राजनीति में नहीं हैं। हमारा काम नमो-नमो करना नहीं। हमें अपने लक्ष्य के लिए काम करना है।
संघ के मुखिया ने कहा कि मौजूदा परिदृश्य में तटस्थ रहकर काम करना ज्यादा महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हमारी अपनी मर्यादा है और हमें मर्यादा नहीं तोड़नी है। हालांकि, भागवत ने भाजपा को सत्ता में लाने के लिए संघ के प्रयासों का बचाव किया और कहा कि यह राष्ट्रहित में है।
उन्होंने कहा कि इस समय सवाल यह नहीं है कि कौन आना चाहिए। बड़ा सवाल यह है कि कौन नहीं आना चाहिए। अपने भाषण की शुरुआत भागवत ने यह कहते हुए की कि कई बार हमें ऐसे काम करने पड़ते हैं, जो आपस में विरोधाभासी लगते हैं। चुनाव के दौरान भाजपा के लिए काम करते हुए स्वयंसेवकों को यह ध्यान रखना है कि हम किसी राजनीतिक पार्टी का हिस्सा नहीं हैं।

AddThis Social Bookmark Button

गौतमबुद्धनगर से अमर सिंह हो सकते हैं कांग्रेस के लोकसभा उम्मीदवार?

E-mail Print PDF

नोएडा/दिल्लीः सपा के पूर्व महासचिव ठाकुर अमर सिंह नोएडा लोकसभा से कांग्रस के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं। सूत्री की माने तो कांग्रेस ने अमर सिंह को गौतमबुद्धनगर से लोकसभा प्रतियाशी बनाया गया है। अगर कांग्रेस सूत्रों पर यकीन करें तो कभी मुलायम का दायां हाथ रहे पूर्व सपा नेता अमर सिंह कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं।इतना ही नहीं, सत्तारूढ़ पार्टी उन्हें गौतम बुद्ध नगर से चुनाव भी लड़ा सकती है। फरवरी 2010 में उन्हें और अभिनेत्री-सांसद जया प्रदा को सपा से निकाल दिया गया था।

AddThis Social Bookmark Button

Page 1 of 397

  • «
  •  Start 
  •  Prev 
  •  1 
  •  2 
  •  3 
  •  4 
  •  5 
  •  6 
  •  7 
  •  8 
  •  9 
  •  10 
  •  Next 
  •  End 
  • »