Thursday, Apr 24th

Last update11:53:14 AM GMT

You are here:: राज्य

प्रदेश

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को दिया इस्तीफा

E-mail Print PDF

एनएनआई न्यूज डेस्क। देहरादून: एक बार फिर उत्तराखंड में सत्ता परिवर्तन होंने जा रहा है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने कुछ देर पहले राजभवन जाकर राज्यपाल अजीज कुरैशी को अपना इस्तीफा दे दिया है। वही विजय बहुगुणा ने ये भी कहा कि, कल नए मुख्यमंत्री के नाम का एलान हो सकता हे। वहीं अब उत्तराखंड के अगले सीएम के तौर पर हरीश रावत का नाम सामने आ रहा है और वो ही उत्तराखंड के सीएम हो सकते हैं।  
उत्तराखंड में पिछले साल विनाशकारी बाढ़ के बाद राहत और पुनर्वास कार्यों को लेकर बहुगुणा की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठने लगे थे। राज्य के विधायकों और अन्य कांग्रेस नेताओं के प्रतिनिधिमंडल बहुगुणा को हटाने का दबाव बनाने के लिए दिल्ली में पिछले छह महीने से पार्टी नेताओं से नियमित तौर पर मिलते रहे हैं।
कांग्रेस के विधानसभा में 33 सदस्य हैं। उसे प्रोग्रेसिव डेमोकेट्रिक फ्रंट के 7 सदस्यों का समर्थन है। इस फ्रंट में बसपा के तीन, निर्दलीय तीन और उत्तराखंड क्रान्ति दल का एक विधायक शामिल हैं। वहीं विपक्षी दल भाजपा के 30 विधायक हैं।

AddThis Social Bookmark Button

मुंबई पुलिस कमिश्नर का इस्तीफा, लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी

E-mail Print PDF

एनएनआई न्यूज डेस्क। मुंबई: मुंबई के पुलिस कमिश्नर सत्यपाल सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। सत्यपाल सिंह अगले वर्ष अवकाश ग्रहण करने वाले थे। वहीं जानकारों की माने तो पूर्व कमीश्नर लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं। सत्यापाल सिंह 1980 बैच के आईपीएस अधिकारी थे।

AddThis Social Bookmark Button

NCP अध्यक्ष शरद पवार ने की मोदी से गुप्त मुलाकात!

E-mail Print PDF

समाचार प्लस डेस्क। मुंबई: एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने भारतीय जनता पार्टी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी से गुप्त मुलाकात की बात सामने आई है। ये दावा मुंबई के एक मराठी अखबार ने किया है। इस अखबार का दावा है कि 17 जनवरी को दिल्ली में दोनों नेताओं की मुलाकात हुई थी। वहीं एनसीपी अध्यक्ष ने शरद पवार ने इस खबर को बेबुनियाद करार दिया है।

AddThis Social Bookmark Button

SC के सामने यूपी सरकार का कबूलनामा, दूध में है मिलावट

E-mail Print PDF

एनएनआई न्यूज डेस्क। नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के सामने कबूला उत्तर प्रदेश सरकार ने सच, कहा दूध व उत्पादों में है डिटर्जेंट पावडर, स्टार्च,वाइटनर और फॉरेन फैट जैसे हानीकारक पदार्थ मिले हैं। यूपी सरकार ने अपने उस दावे को खुद ही खारिज कर दिया जिसमें उसने कहा था कि उनके यहां दूध व उत्पादों में कोई मिलावट नहीं है। आखिर कार सुप्रीम कोर्ट के सख्त रूख के बाद सच को कबूल लिया है। प्रदेश सरकार ने कहा कि 2012-13 के दौरान लिए गए दूध व उसके उत्पादों के सैंपलों में डिटर्जेंट, स्टार्च, वाइटनर और फॉरेन फैट जैसे नुकसानदायक पदार्थ पाए गए हैं। हालांकि ऐसा करने वालों के खिलाफ उठाए गए कदमों के सवाल पर राज्य सरकार ने सटीक जवाब नहीं दिया।

जानकारी के अनुसार यूपी खाद्य सुरक्षा विभाग के सहायक आयुक्त विजय बहादुर ने सर्वोच्च अदालत में हलफनामा दाखिल कर कहा है कि राज्य में बड़ी संख्या में दूध में मिलावट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। त्यौहारों के मौके पर मिलावट करने वालों के खिलाफ अभियान तेज कर दिए जाते हैं क्योंकि उस दौरान मांग बढ़ जाती है। हलफनामे के मुताबिक खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम के तहत मिलावट करने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की बात भी कही है।

वहीं 2012-13 के दौरान 37368 निरीक्षण किए गए और इस दौरान 4503 सैंपल दूध व उसके उत्पादों के लिए गए। इनमें से 1237 सैंपल मानक के अनुरूप नहीं पाए गए। इनमें से 52 सैंपलों में डिटर्जेंट, स्टार्च, वाइटनर और फॉरेन फैट समेत अन्य हानिकारक मिलावटी पदार्थ पाए गए। इन सभी के खिलाफ अभियोजन की कार्यवाही शुरू की जा रही है। यूपी सरकार ने कहा है कि 2012-13 में मिलावट के खिलाफ समुचित कदम उठाए गए हैं। जिले के निरीक्षण अधिकारियों को इस संबंध में सख्ती बरतने को कहा गया और उन्होंने 2921 लीटर दूध व 7799 किलोग्राम दुग्ध उत्पाद सील किया। हालांकि राज्य सरकार ने हलफनामे में मिलावट करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के सुप्रीम कोर्ट के सवाल पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

AddThis Social Bookmark Button

सोमनाथ से पंगा भारी, महिला आयोग की अध्यक्ष को हटाने की तैयारी!

E-mail Print PDF

एनएनआई न्यूज। नई दिल्ली: केजरीवाल सरकार में कानून मंत्री सोनाथ भारती को विदेशी महिलाओं पर छापेमारी के मामले में नोटिस जारी करने वाली दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष बरखा सिंह को पद से हटाने की तैयारी शुरू हो गई है। केजरीवाल सरकार बरखा सिंह को पद से जल्द हटाने के कोशिश में जुट गई है।

वहीं इस संबंध में बरखा सिंह का कहना है कि मैंने तो सिर्फ अपनी ड्यूटी की है। मेरे साथ दिल्लीस सरकार ऐसा सिर्फ इसलिए कर रही है क्यों कि कानून मंत्री सोमनाथ भारती को मैंने समन भेजा। यदि महिला आयोग की अध्यीक्ष के साथ ऐसा हो रहा है तो आप ही बताइए कि दूसरी महिलाएं कैसे सुरक्षित कहीं जा सकती हैं। सूत्रों की मानें तो दिल्ली सरकार ने बरखा सिंह की जगह मैत्रेयी पुष्पा का नाम रिकमेंड किया है।
आपको बता दें कि, आधी रात को विदेशी महिलाओं पर छापेमारी के मामले में कानून मंत्री सोमनाथ भारती महिला आयोग के निशाने पर आ गए थे। दिल्लीछ महिला आयोग ने युगांडा की पीड़ित महिलाओं की शिकायत पर भारती को पेश होने के लिए समन भी जारी किया था, लेकिन वो पेश नहीं हुए। सोमनाथ बरखा पर कांग्रेस के इशारों पर काम करने का आरोप लगा चुके हैं। वहीं अब इस सारे मामले में आप सरकार सोनाथ को बचाने के जुगत में लग गई है।

AddThis Social Bookmark Button

Page 5 of 396