पकिस्तान के जीत पर अलगाव वादी नेता मीरवाइज के वधाई देने पर भड़के गम्भीर , जाने अन्य लोगो के ट्वीट

एनएनआई  (जम्मू कश्मीर) - चैंपियंस ट्रोफी के फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने भारत को 180 रनों से हराया। इस जीत के बाद अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारुख ने पाकिस्तानी टीम को बधाई देते हुए एक ट्वीट किया। मीरवाइज ने ट्वीट में लिखा कि ऐसा लग रहा है ईद जल्दी आ गई। इससे नाराज गौतम गंभीर ने उन्हें ट्विटर पर बेहद तल्ख जवाब दिया और उन्हें बॉर्डर पार चले जाने की सलाह दी। 

मीरवाइज ने पाकिस्तान की जीत पर ट्वीट किया, ''सब तरफ पटाखों की आवाज़ आ रही है. ऐसा लग रहा है कि ईद जल्दी आ गई. बेहतर खेलने वाली टीम का दिन रहा. पाकिस्तानी टीम को जीत की बधाई.''

इस ट्वीट पर गौतम गंभीर ने लिखा- "मीरवाइज आपके लिए एक सुझाव है. आप बॉर्डर पार करके उस पार क्यों नहीं चले जाते? वहां आपको बेहतर पटाखे (चाइनीज?) और ईद का जश्न मिलेगा. मैं आपकी पैकिंग में मदद कर सकता हूं.''

फ़ैसल ने लिखा- "तुमको मिर्ची लगी तो मैं क्या करूं?" वहीं ज़ईम नईम नाम के यूज़र ने कहा- "आप लोगों का रोना शुरू हो गया?"

वहीं बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर ने भी ट्वीट करके पाकिस्तान को बधाई दी. हां, पाकिस्तान आपने हमें हरा दिया.आप अच्छा खेले, जीत की बधाई.

वहीं महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने हॉकी की टीम को जीत की बधाई दी है

उल्लेखनीय है कि पहले तो रवींद्र जडेजा, आर अश्विन और जसप्रीत बुमराह जैसे गेंदबाज कप्‍तान कोहली की उम्‍मीद पर खरे उतरे. एक और बात यह कोहली ने कप्‍तानी में कल्‍पनाशीलता नहीं दिखाते हुए अपनी मुश्किलें और बढ़ा लीं. जब जडेजा और अश्विन की जोरदार धुलाई हो रही थी तब उन्‍होंने लेग स्पिनर युवराज सिंह को गेंदबाजी देने का जोखिम नहीं लिया. वर्ल्‍डकप 2011 के मैन ऑफ द टूर्नामेंट युवराज अपनी गेंदबाजी से टीम को सफलता दिला सकते थे. कम से कम उन्‍हें गेंदबाजी का मौका तो दिया ही जा सकता था, लेकिन कोहली ने ऐसा नहीं किया. बांग्‍लादेश के खिलाफ मैच की दिशा बदलने वाले केदार जाधव को भी वे काफी देर बाद आक्रमण पर लाए. तब तक बहुत देर हो चुकी थी. पाकिस्‍तान टीम ने मैच को ऐसी स्थिति में पहुंचा दिया जहां से टीम इंडिया के लिए वापसी करना बेहद मुश्किल हो गया था. भारतीयों के लिए वाकई आज फील्‍ड में खराब दिन था. जसप्रीत बुमराह ने जहां तीन नो बॉल कीं वहीं, खास मौकों पर फील्‍डर भी विकेट पर निशाना लगाने से चूकते रहे.