राष्ट्रपति चुनाव 2017 की दौड मे भाजपा की तरफ से रामनाथ कोविंद उम्मीदवार घोषित

एनएनआई  (नई दिल्ली)  -      2017 के राष्ट्रपति चुनाव को लेकर चल रहे मंथन मे एनडीए सरकार ने एक अहम निर्णय लिया है बिहार के मौजूदा राज्यपाल राम नाथ कोविंद राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार होंगे. बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इसका ऐलान किया.

दरअसल राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम पर फैसला के लिए बीजेपी संसदीय बोर्ड की अहम बैठक में करीब एक घंटे तक मंथन चलता रहा. दिल्ली के बीजेपी मुख्यालय में हुई बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी प्रमुख अमित शाह के अलावा सुषमा स्वराज, वेंकैया नायडू, अनंत सिंह और थावर चंद गहलोत जैसे वरिष्ठ नेता भी शामिल हुए.

सूत्रों ने मुताबिक, इस बैठक में राष्ट्रपति उम्मीदवार पर फैसला बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ऊपर ही छोड़ दिया गया था. वहीं पीएम मोदी ने अमित शाह के साथ अलग से बातचीत भी की. इसके बाद ही अमित शाह ने दोपहर दो बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कोविंद के नाम का ऐलान  किया. राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर राजनीतिक गलियारें तमाम नामों की चर्चा थी, लेकिन रामनाथ कोविंद का नाम हर किसी के लिए चौकाने वाला रहा।  

 रामनाथ कोविंद का जन्‍म 1 अक्‍टूबर 1945 को देश के सबसे बड़े राज्‍य उत्‍तरप्रदेश के कानपुर जिले के परौंख गांव में हुआ था. अध्‍ययन में बचपन से ही मेधावी रहे कोविंद बीजेपी में कई पदों पर रहने के अलावा हाईकोर्ट में वकालत कर चुके हैं. वे सुप्रीम कोर्ट में भी केंद्र सरकार के वकील भी रह चुके हैं. वर्ष 2015 से वे बिहार के राज्‍यपाल का पद संभाल रहे हैं।

भले ही वह इस समय वह बिहार के राज्यपाल हों लेकिन कानपुर से लगातार उनका जुड़ाव रहा है. यही कारण है कि वह समय-समय पर यूपी का दौरा करते रहे हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी युग के रामनाथ कोविंद यूपी में बीजेपी के सबसे बड़े दलित चेहरा माने जाते रहे हैं।

कोविंद वर्ष 1991 में बीजेपी में शामिल हुए. उच्‍च सदन राज्‍यसभा में 12 वर्ष तक कोविंद बीजेपी का प्रतिनिधित्‍व कर चुके हैं. पार्टी के प्रवक्‍ता का पद भी उन्‍होंने संभाला है. कोविंद बीजेपी के दलित मोर्चे के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष का पद भी संभाल चुके हैं. गौरतलब है कि इससे पहले अनुसचित जाति वर्ग से केआर नारायणन देश का राष्‍ट्रपति पद संभाल चुके हैं.